• VIVEK KUMAR SHUKLA

दोनों हाथ लड्डु चाहिए


मै भारत का नागरिक हूं

मुझे लड्डू दोनो हाथ चाहिए,

- बिजली मै बचाऊंगा नही, बिल मुझे माफ चाहिए |

पेड़ मै लगाऊंगा नही, मौसम मुझको साफ चाहिए |

शिकायत मै करूंगा नही, कार्यवाही तुरंत चाहिए |

बिना लिए कुछ काम न करूं, पर भ्रष्टाचार का अंत चाहिए |

घर बाहर कूडा फेकूं, शहर मुझे साफ चाहिए | काम करूं न धेले भर का वेतन लल्लनटांप चाहिए |

एक नेता कुछ बोल गया, मुफ्त मे पंद्रह लाख चाहिए |

लोन मिले बिल्कुल सस्ता, बचत पर ब्याज बढ़ा चाहिए |

धर्म के नाम रेवडियां खाए, पर देश धर्मनिरपेक्ष चाहिए |

जाति के नाम पर वोट चाहिए, अपराध मुक्त राज्य चाहिए |

टैक्स न दूं धेलेभर का, विकास मे पूरी रफ्तार चाहिए | मै भारत का नागरिक हूं, मुझे लड्डू दोनो हाथ चाहिए !!

#fight #News #shame #poem #hindi #citizen

57 views